प्रतिक्रमण : रिश्तों की समस्याओं के समाधान

क्या जीवन में से ईर्ष्या, संदेह, क्रोध, घृणा और अभाव को सफलतापूर्वक दूर करने का कोई तरीका है?

अपने जीवन में से टकराव को कैसे दूर कर सकते हैं? अपने परिवार, दोस्तों और सहकर्मियों के साथ शांतिपूर्ण जीवन कैसे बिताएँ? हम अपने आपको या औरों को दुःख देने से कैसे बच सकते हैं?

क्या चोरी और दूसरों की मज़ाक उड़ाने की बुरी आदतों पर काबू पाने का कोई वैज्ञानिक तरीक़ा है?

किसी भी प्रकार के आपसी संबंध में आनेवाली सभी परेशानियों से लड़ने के लिए परम पूज्य दादाश्री ने प्रतिक्रमण का हथियार दिया है, प्रतिक्रमण का इतना प्रभाव पड़ता है कि अगर आप सिर्फ एक घंटा किसी व्यक्ति के प्रतिक्रमण करे, चाहे वह व्यक्ति वहाँ उपस्थित है या नहीं, तो उस व्यक्ति में ज़बरदस्त परिवर्तन हो जाता है। प्रतिक्रमण से आपके प्रति उसकी दुश्मनी कम हो जाएगी और आपको भीतर से भी हल्का मेहसूस होगा।

जीवन की हर एक परिस्थिति में आप प्रतिक्रमण करके मन की शांति का अनुभव कर सकते हैं।

 

प्रतिक्रमण कैसे करे?

प्रतिक्रमण कैसे करते हैं? हमारे द्वारा जिस व्यक्ति को दुःख हुआ है, उस व्यक्ति के शुद्धात्मा को प्रार्थना कर के क्षमा मांगते हैं|

Top Questions & Answers

  1. Q. मैं मेरे बच्चे को चोरी करने से कैसे रोक सकता हूँ?

    A. कोई लड़का चोर बन गया है। वह चोरी करता है। मौका मिलने पर लोगों के पैसे चुरा लेता है। घर पर गेस्ट आए... Read More

  2. Q. मैं अपनी पत्नी के साथ कैसे प्रेमपूर्वक रहूँ?

    A. प्रश्नकर्ता: पूर्वजन्म के ऋणानुबंध से छूटने के लिए क्या करना चाहिए? दादाश्री: आपका जिनके साथ पूर्व... Read More

  3. Q. रिश्ते में ईर्ष्या और संदेह से कैसे छुटकारा पाएँ?

    A. प्रश्नकर्ता: जो ईर्ष्या होती है वह नहीं हो, उसके लिए क्या करना चाहिए? दादाश्री: उसके दो उपाय हैं।... Read More

  4. Q. संबंधों में क्रोध पर काबू कैसे पाए?

    A. प्रश्नकर्ता: किसी पर बहुत गुस्सा आ जाए, फिर बोलकर बंद हो गए, बाद में यह जो बोलना हुआ उसके लिए जी... Read More

  5. Q. अपने मातहत को डाँटने के बाद उनसे कैसे क्षमा माँगें?

    A. प्रश्नकर्ता : नौकरी के दौरान फर्ज अदा करते समय मैंने बहुत सख्ती के साथ लोगों के अपमान किये थे,... Read More

  6. Q. अपमान आए तब कैसा व्यवहार करना चाहिए?

    A. प्रश्नकर्ता: तो प्रतिक्रमण यानी क्या? दादाश्री: प्रतिक्रमण यानी सामनेवाला जो आपका अपमान करता है,... Read More

  7. Q. बैर भाव को कैसे दूर करें?

    A. प्रश्नकर्ता : हम प्रतिक्रमण न करें तो फिर किसी समय सामनेवाले के साथ चुकता करने जाना पड़ेगा... Read More

  8. Q. दूसरों की मज़ाक उड़ाना कैसे टाले? इसके लिए कैसे माफ़ी माँगनी चाहिए?

    A. मैंने तो लोगों का हर तरह से मज़ाक उड़ाया था। हमेशा हर तरह का मज़ाक कौन उड़ाता है? जिसका बहुत टाइट... Read More

  9. Q. मैंने किसीको दुःखी किया हो, तो उसकी माफ़ी कैसे माँगूं?

    A. प्रश्नकर्ता: सामनेवाले का मन तोड़ा हो तो उससे छूटने के लिए क्या करना चाहिए? दादाश्री: प्रतिक्रमण... Read More

  10. Q. कोई बार-बार हमें दुःखी करे, तो उसे क्षमा कैसे दे?

    A. प्रश्नकर्ता: कोई व्यक्ति गलती करे, फिर हम से क्षमा माँगे, हम क्षमा कर देते हैं, नहीं माँगने पर भी... Read More

  11. Q. मिच्छामि दुक्कडम् क्या है?

    A. मिच्छामी दुक्कड़म अर्धमागधी भाषा (भगवान महावीर के समय में बोली जाने वाली भाषा) का एक शब्द है।... Read More

Spiritual Quotes

  1. यह प्रतिक्रमण करके तो देखो, फिर आपके घर के सभी लोगों में चेन्ज (परिवर्तन) हो जाएगा, जादूई चेन्ज हो जाएगा। जादूई असर!
  2. सामनेवाले को दुःख होने पर समाधान अवश्य करना चाहिए। वह हमारी 'रिस्पोन्सिबिलिटि' (जिम्मेदारी) है। हाँ, दुःख नहीं हो उसके लिए तो हमारी लाइफ (जिन्दगी) है।
  3. पहले इलाज पैदा होता है, फिर उसके बाद समस्या या दु:ख आते हैं।
  4. दूसरों के प्रति आपके अभिप्राय धो डालें। साबुन लगाकर धो डालें।
  5. प्रतिक्रमण माने बीज भुनकर बोना।
  6. हमेशा हर तरह का मज़ाक कौन करेगा? बहुत टाइट ब्रेन (तेज दिमा़ग) होगा वह करेगा। अब वह सारा अहंकार गलत ही न! वह बुद्धि का दुरुपयोग ही किया न! मज़ाक उड़ाना यह बुद्धि की निशानी है।
  7. जब आप प्रतिक्रमण करने बैठे न, तब अमृत के बिंदु टपकने लगते हैं एक ओर, और हलकापन महसूस होने लगता है।
  8. किसी के हाथ में परेशान करने की भी सत्ता नहीं है और किसी के हाथ में सहन करने की भी सत्ता नहीं है। ये तो सभी पूतलें ही हैं। वे सभी काम किया करते हैं। हमारे प्रतिक्रमण करने पर पूतले अपने-आप सीधे हो जायेंगे।

Related Books

×
Share on
Copy