Related Questions

बच्चों को जितना हो सके जंक फूड कम खाने के लिए कैसे मार्गदर्शन करें?

वर्तमान समय में बच्चे विकासशील दुनिया और आधुनिक भोजन से प्रभावित हो रहे हैं। वे करी और रोटी के बजाय कोल्ड ड्रिंक्स और पेस्ट्री, वेफर्स के पेकेट खाना पसंद करते हैं। फास्ट फूड द्वारा स्वास्थ्य पर होने वाले हानिकारक प्रभाव को वे नहीं जानते, जितना हो सके जंक फूड का सेवन कम करना ज़रूरी है। बेहतर है कि छोट़ी उम्र में ही पौष्टिक भोजन खाने की आदत डाली जाए। बचपन से ही खाने-पीने की सही आदत डालने में माता–पिता की अहम भूमिका होती है जिसमें जंक फूड कम मात्रा में खाना भी शामिल है।

बच्चों को प्रतिदिन जंक फूड खाने से दूर रखने हेतु कुछ महत्वपूर्ण टिप्स:–

समझाइए! डाँटिए नहीं!

  • सिर्फ उन्हें समझाइए कि अधिक पेप्सी पीना और अधिक चॉकलेट खाना उनके स्वास्थ्य के लिए किस तरह हानिकारक है। उनके साथ शांति से बात कीजिए और उन्हें समझाइए कि अगर वे इसी तरह का खाना खाते रहेंगे तो उनका स्वास्थ्य बिगड़ जाएगा। शुरुआत में जंक फूड बिल्कुल भी ना लें ऐसा न भी हो, लेकिन इसके हानिकारक प्रभावों को बताकर इसके सेवन को कम करना और दैनिक भोजन में इसे टालना सरल है।
  • अगर आपका बच्चा कुछ गलत कर रहा है, तो हर बार डाँटना नहीं चाहिए। यदि आप बच्चों को डाँटते या मारते हैं, तो वे इस तरह के दुर्व्यवहार को बर्दाश्त नहीं करेंगे, और मन ही मन तय करेंगे कि बड़े होकर अपने पिता को देख लेंगे। और जब वे बड़े हो जाते हैं तब अपने पिता के साथ वैसा ही व्यवहार करते हैं।

शारीरिक या शाब्दिक दुर्व्यवहार से इस जगत में कोई नहीं सुधरता। उचित व्यवहार करने से उनमें सुधार आता है।

  • सही समझ का परिणाम सही व्यवहार है। इसलिए जब बच्चों को जंक फूड खाने से दूर रखने की बात आती है, तो सबसे पहले ‘जंक फूड खाना अच्छा और गुणकारक है’, बच्चों की इस मान्यता और समझ को बदलना होगा। समझ बदलने में थोडा समय लगेगा; इसलिए धैर्य रखें और पढ़कर ऐसी जानकारी प्राप्त करें जो आपके ज्ञान को बढ़ाए और इसे बच्चों के साथ बातचीत करें। व्यवहार बदलने में थोड़ा अधिक समय लगेगा इसलिए अधिक धैर्य की आवश्यकता है। धैर्य रखने के लिए, परम पूज्य दादाश्री ने भीतर बैठे शुद्धात्मा को प्रार्थना करने का उपाय बताया है।

बच्चों को सीमित मात्रा में जंक फूड दें

जंक फूड खाने की मात्रा दिन में एक बार या सप्ताह में एक बार सीमित कर सकते हैं। जंक फूड खाने से पहले फल या सलाद खाने में दें। एक घंटा खेल/ जिम/ जॉगिंग/ डाँस/ स्वैच्छिक कार्य करने की आदत डालें। यदि बच्चा इस तरह का एक छोटा सा प्रयास भी करे तो उसकी प्रशंसा करें।

अपने घर में जंक फूड का संग्रह ना करे

हम कहते हैं कि बच्चे बहुत ज्यादा जंक फूड खाते हैं। लेकिन अगर आपके पसंद की चॉकलेट आपके सामने पड़ी हो तो क्या आप अपने आप को इसे खाने से रोक पाएँगे? नहीं ना! इसलिए पहले आप तय करें कि घर में अधिक मात्रा में चीनी और वसायुक्त जंक फूड लाना ही नहीं है। स्वास्थ्य के लिए नुकसानकारक खाद्य पदार्थ के बदले स्वास्थ्यवर्धक खाद्य पदार्थ खरीदें। कोई भी परिवर्तन लाना हमेशा चुनौतीपूर्ण ही होता है- विशेष रूप से पहला प्रयास, लेकिन अगर आपका हेतु स्पष्ट है तो यह काम आसान हो जाता है।

मिठाईयों का बच्चों पर विपरित असर

आइए देखते हैं परम पूज्य दादाश्री मिठाई के बारे में क्या कहते हैं:

प्रश्नकर्ता: इन छोटे बच्चों को मगदले (एक प्रकार की अधिक घी वाली मिठाई) खिलाते हैं, वह खिला सकते हैं?

दादाश्री: नहीं खिला सकते, मगदल नहीं खिला सकते। छोटे बच्चों को मगदल, गोंदपाक, पकवान ज़्यादा मत खिलाना। उन्हें सादा भोजन देना और दूध भी कम देना चाहिए। बच्चों को यह सब नहीं देना चाहिए। लोग तो दूध से बनी चीज़ें बार-बार खिलाते रहते हैं। ऐसी चीज़ें मत खिलाना। आवेग बढ़ेगा और बारह साल का होते ही उसकी दृष्टि बिगड़ने लगेगी आवेग कम हो बच्चों को ऐसा भोजन देना चाहिए। ये सब तो सोच में भी नहीं है। जीवन कैसे जीना, इसकी समझ ही नहीं है न!

प्रश्नकर्ताः यह तो दृष्टि ही उलटी है, ‘किस तरह बच्चों को फिट और स्वस्थ बना सकता हूँ?'

दादाश्रीः ‘बच्चों का किस तरह से पालन और नर्सरी करें इसकी समझ ही नहीं उन्हें। इसलिए वे उनका पालन-पोषण करते समय उनका ज़्यादा नुकसान कर देते हैं। लोग सिर्फ शारीरिक दायित्व ही समझते हैं। यह तो नर्सरी है।’ यह बात कहीं नहीं मिलेगी, न ही शास्त्रों में, न ही किताबों में और न ही किसी के दिमाग में। यह तो बोध कला है। यह अद्भुत कला है; नया विज्ञान है। बालक को समझदार बनाना चाहिए। बिना आवेग का, एकदम सुंदर ! आवेग उत्पन्न हों ऐसी खुराक खिलाते हैं और संस्कार ढूँढते हैं, यें दोनों एक साथ कैसे संभव है? उन्हें दाल, भात, रोटी, सब्ज़ी सारी सादी खुराक खिलाएँ। यह बहुत बढ़िया खुराक है, इसमें हर्ज नहीं।

उन्हें अन्य स्वादिष्ट भोजन दीजिए

अपनो बच्चों को कम तेल और कम चीनी से घर में बनाया हुआ भोजन दें। उन्हें विभिन्न प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजन बनाकर दे ताकि वे उसी का स्वाद लें और अन्य भोजन में रुचि न लें। उन्हें उत्तम गुणवत्ता युक्त भोजन दें। उन्हें ऐसा बढ़िया भोजन दें ताकि वे उसी को खाने के बारे में सोचे। तब वे जंक फूड पसंद नहीं करेंगे और उससे दूर रहेंगे। शायद यही बच्चों को जंक फूड खाने से दूर रखने का सबसे आसान तरीका है।

Related Questions
  1. बच्चों के विकास में माता-पिता की भूमिका क्या है?
  2. बच्चों से कैसे बात करें ?
  3. कैसे बात करें कि बच्चे आपकी बात सुने?
  4. बच्चों को जितना हो सके जंक फूड कम खाने के लिए कैसे मार्गदर्शन करें?
  5. जब आपके बच्चे गलतियाँ करें तो क्या करें?
  6. बिना कटु वचन कहे बच्चों को किस प्रकार शिष्ट करें? शिष्टाचार और अनुशासन के सहित बच्चों की परवरीश कैसे करें?
  7. जिद्दी एवं गुस्सैल बच्चों के साथ कैसा व्यवहार करें?
  8. ज़िद्दी या अवज्ञाकारी बच्चों के साथ कैसा व्यवहार करें?
  9. बच्चों की बुरी आदतें कैसे छुड़ाएँ ?
  10. बच्चों के ऊपर चिल्लाना किस तरह बंद करें? किच-किच कैसे बंद करें?
  11. टीनएजर्स के साथ माता-पिता को कैसा व्यवहार करना चाहिए?
  12. वसीहत में बच्चों को कितना देना चाहिए?
  13. माता-पिता और बच्चों के बीच का संबंध कैसे मज़बूत करें?
  14. बच्चों के सामने माता-पिता का व्यवहार कैसा होना चाहिए?
  15. बच्चों को नैतिक मूल्य कैसे सिखाएँ?
  16. बच्चों के शिक्षण में माता-पिता की क्या भूमिका है?
  17. बच्चों के लिए की गई प्रार्थना में कितनी शक्ति है? बच्चों के लिए प्रार्थना कैसे करें?
×
Share on