Related Questions

चिंताओं से मुक्त कैसे हुआ जाए ? सरल है ! आत्मज्ञान पाये !

चिंता तब होती है जब आप किसी ऐसी चीज के मालिक बन जाते हैं, जो आपकी नहीं है । यह आपको खुशी और दर्द दोनों ही देते हैं । यदि आप किसी की अनुमति के बिना, उनके घर में प्रवेश करते हैं, तो क्या आप असहज और परेशान नहीं होंगे ? आप होंगे । आपको डर लगा रहेगा कि वह आपसे परेशान हो जाएगा और बेइज्जत करके आपको घर से बाहर निकाल देगा । लेकिन अगर आप अपने घर में हैं, तो क्या आपको कोई तनाव या चिंता होगी ? आप अपने घर में बहुत आराम और शांति महसूस करेंगे ।

उसी तरह जब आपको आत्मज्ञान प्राप्त होता हैं, तो आपको अपने घर की पहचान होती हैं, और इसलिए आप फिर कभी चिंता का अनुभव नहीं करते है|आप हमेशा के लिए चिंताओं से मुक्त हो जाते हैं और तनावमुक्त जीवन जीने लगते हैं । ज्ञानी पुरुष की कृपा से आत्मज्ञान पाना संभव है, ज्ञानविधि (आत्मज्ञान पाने के लिए अक्रम विज्ञान का एक खास वैज्ञानिक प्रयोग) के माध्यम से जो एक वैज्ञानिक प्रक्रिया है आत्मज्ञान प्राप्त करने की| ज्ञानविधी में पिछले अनंत जन्मों के पाप कर्मो का नाश होकर आत्मा पर जो अज्ञान की कई सारी परतें हैं ,वह टूट जाती हैं । उस समय परमात्मा की कृपा से व्यक्ति स्वयं के प्रति जागरूक हो जाता है ।

आत्मा ज्ञान के बाद चिंता मुक्त दशा

ज्ञानी हमे यस जागृती देता है कि चिंता और क्रोध कुछ ऐसा है जो पुद्गल में उपन्न होता है, स्व में नहीं । और उसके बाद, यह प्रतीति बैठ जाती है, कि स्व (आत्मा) को कुछ नहीं हो सकता है आत्मा की यथार्थ तरीके से प्राप्ति होने के बाद, सिर्फ डिस्चार्ज कर्म रह जाते है । इस दशा में, कर्म बंधन होना बंध हो जाता है जब की पिछ्ले जन्म के कारणों की असर आज उदय में आती है । इसके आगे कोई कर्म बंधन नहीं होते ।

जब आप अपना “घर” देखोगे, तो आपको कोई चिंता या निराशा नहीं होगी और आप शारीरिक, मानसिक और बाहरी रूप से होने वाली समस्याओं के प्रभाव से मुक्ति का अनुभव करेंगे (समाधिदशा) !

आत्मज्ञान के बाद, आप कहीं भी ठोकर नहीं खाएंगे, आपको कोई चिंता नहीं होगी, आपको कुछ भी प्रभावित नहीं करेगा और आपका कोई ऊपरी भी नहीं होगा । यह सब वह बाते है जो आप अनुभव करेंगे । आप भीतर अपार आनंद अनुभव करेंगे । आप किसी भी दु:ख का अनुभव नहीं करेंगे । आप किसी भी प्रकार की चिंता या दु:ख से प्रभावित नहीं होंगे ।

मुक्ति तब है, जब आपकी आंतरिक शांति, आपको इनकमटैक्स ऑफिस से ऑडिट का पत्र मिलने पर भी चालित न हो । अंतिम मुक्ति बाद में आएगी, लेकिन पहले आपको यहाँ और अभी मुक्ति का अनुभव करना होगा । यहाँ और अभी मुक्ति का अनुभव करना वह सारी चिंताओं से पूरी तरह मुक्त होने की आपकी स्थिति को बताता है ।

मुक्ति के दो चरण

मुक्ति ऐसी होनी चाहिए, कि व्यक्ति सांसारिक जीवन जीते हुवे भी, इससे अप्रभावित रहे । मुक्ति का ऐसा चरण अक्रम विज्ञान के माध्यम से संभव है ! वह मुक्ति का पहला चरण है । इस अवस्था में आप आतंरिक अशांति से मुक्ति का अनुभव करते हैं । यहाँ तक कि किसी दूसरे के द्वारा दिए गए दु:ख के बीच भी, आप उस दु:ख से मुक्ति का अनुभव करते हैं । और स्वयं (आत्मा ) के आनंद का अनुभव करते हैं । ज्ञानी पुरुष परम पूज्य दादा भगवान को हर क्षण मोक्ष के इस पहले चरण का अनुभव रहता था ।

मुक्ति का दूसरा चरण (स्थायी मोक्ष) तब प्राप्त होता है, जब आपके सभी कर्म पूरी तरह से समाप्त हो जाते हैं । और आप जन्म मरण के चक्र से स्थायी रूप से मुक्त हो जाते हैं ।

Related Questions
  1. चिंता क्या है? चिंता करने का मतलब (कारण)क्या है?
  2. चिंता क्यों ज्यादातर लोगो की बड़ी समस्या है ? चिंता और परेशानी के कारण क्या है ?
  3. तनाव क्या है?
  4. क्या मैं चिंता रहित रहकर व्यापार कर सकता हूँ?
  5. चिंता करना क्यों बंद करे ? तनाव और चिंता के क्या प्रभाव है ?
  6. किन प्रभावी तरीकों से चिंता करना रोक कर जीना शुरू किया जाये? चिंता कैसे न करें ?
  7. क्या मुझे भविष्य की चिंता करनी चाहिए ?
  8. वर्तमान में रहें। चिंता क्यों?
  9. मैं अपने जीवन में कुछ भी नियंत्रित क्यों नहीं कर सकता?
  10. चिंताओं से मुक्त कैसे हुआ जाए ? सरल है ! आत्मज्ञान पाये !
  11. मुझे इस बात की चिंता होती है कि लोग मुझे पसंद नहीं करते और मेरे बारे में क्या सोचते होंगे ? जब कोई मेरा अपमान करें तब मुझे क्या करना चाहिए?
  12. अगर मुझे नौकरी नहीं मिली, तो मे क्या करूँगा? मैं इसके लिए चिंतित हूँ |
  13. घर के बीमार सदस्य के लिए चिंता करना कैसे बंद करे?
  14. जब जीवनसाथी से धोखा मिल रहा हो, तो चिंता और संदेह से कैसे छुटकारा पाये ?
  15. जीवन में सब कुछ खो देने के डर से कैसे छुटकारा पाऊं ?
×
Share on
Copy