Related Questions

भगवान पर ध्यान कैसे केन्द्रित करे?

बिना के एकाग्रता ध्यान या आराधना करने का कोई अर्थ नहीं है...

बचपन से ही हमें सिखाया जाता है कि हमें भगवान की पूजा करनी चाहिए। और हम विभिन्न माध्यमों जैसे जप, तपस्या (तप), भक्ति, आरती, ध्यान आदि के माध्यम से भगवान की पूजा करते हैं।

बचपन से ही हमें सिखाया जाता है कि हमें भगवान की पूजा करनी चाहिए। और हम विभिन्न माध्यमों जैसे जप, तपस्या (तप), भक्ति, आरती, ध्यान आदि के माध्यम से भगवान की पूजा करते हैं।

आमतौर पर, हम पाते हैं कि भले ही हम इन क्रियाओ में शारीरिक रूप से व्यस्त हैं, लेकिन हमारा मन वास्तव में कहीं और भटक रहा होता है। इसके परिणामस्वरूप, हमें अपनी भक्ति का वांछित (मनचाहा) परिणाम नहीं मिलता है।

तो, हम ईश्वर पर कैसे केंद्रित रहें?

एकाग्रता लाना रूचि के कारण ही संभव है

जहाँ रूचि हमे होती है, वहां हमारी एकाग्र करने की क्षमता रहती है।

जब हम घर पर पैसे की गिनती करते हैं, या हम कपड़े की खरीदारी कर रहे होते हैं, तो क्या हमें एहसास होता है कि हमारा मन उस क्रिया में कितना केन्द्रित और तन्मयाकार रहता है? से उस क्रिया के दौरान हमारी एकाग्रता कितनी अच्छी तरह से रहती है?

यदि हमारी ईश्वर में वैसी ही रुचि हो, तो हमें ईश्वर पर अपना ध्यान केन्द्रित करने में कोई कठिनाई नहीं आएगी जब हम ईश्वर पर ध्यान केंद्रित करने में असमर्थ होते हैं, तो इसका अर्थ है कि ईश्वर में हमारी रुचि में कुछ कमी है।

जब हमारे भीतर ईश्वर के प्रति प्रेम उत्पन्न होगा, तो मन भटकेगा नहीं और हम आसानी से ध्यान केंद्रित कर पाएंगे। हम उन चीजों के पीछे भटकते हैं जिन्हें हम मूल्यवान समझते हैं। हम किसी भी चीज़ की जितनी अधिक किंमत रखेंगे, उतना ही हमे उनसे लगाव होगा।

भगवान का संदेशा सरल है:

अगर आपको संसार के प्रति ममता बांधनी है; तो जाओ आगे बढ़ो; या फिर, मेरे पास आओ। यदि मुझसे ममता बांधेगे, तो आपको कायमी सुख मिलेगा; और यदि संसार से ममता बांधेगे, तो आपको कभी संतोष नहीं मिलेगा!

जब तक हमे संसारी चीजों में रुचि रखते हैं तब तक हम विनाशी चीजों के प्रति आकर्षित हो के फ़स जाते है। यदि हम इसके बजाय ईश्वर में रुचि लेते हैं, तो विनाशी चीजों में हमारा आकर्षण, बिना किसी प्रयत्न के अपने आप निकल जाता है। इसलिए, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हमारी रुचि बदल जाए।

ईश्वर में रुचि इतनी आसानी से क्यों नहीं उत्पन्न होती?

यह इसलिए है क्योंकि हमने भगवान को देखा नहीं है। हमने कपड़े और उनके सुंदर रंग देखे हैं, इसलिए हमारी रुचि उनके लिए स्वाभाविक रूप से विकसित होती है।

लेकिन हमे जिन्हें पहले कभी देखा या अनुभव नहीं किया है, तो उसमें किसी की रुचि कैसे विकसित हो सकती है? अगर हम ईश्वर के दर्शन करते हैं तो चीजें काफी बदल जाएंगी।

लेकिन भगवान को नहीं देखा जा सकता है। तो अब हम क्या करें?

ईश्वर के प्रतिनिधि ज्ञानीपुरुष में रूचि।

हम ज्ञानी को अपनी आँखों से, व्यक्ति के रूप मे देख सकते हैं।

इससे हमे अपनी रुचि स्थापित करने में बहुत आसानी हो जाएगी। और ज्ञानी ऐसे है कि किसी को भी उनके प्रति रुचि विकसित करने के लिए ज्यादा प्रयत्न नहीं करना पड़ता है, यह अपने आप उत्पन्न होता है। हर कोई उनके प्रति एक सहजता से आकर्षण का अनुभव करते है - हमें ऐसा लगता है कि हम हर समय उनके साथ ही रहते हैं।

जब हमारी रुचि ज्ञानी में बैठेगी, तो वह रुचि सीधे भगवान तक पहुँच जाएगी!

Related Questions
  1. भगवान क्या है?
  2. भगवान कौन है?
  3. क्या भगवान है? भगवान कहाँ है?
  4. भगवान को किसने बनाया? भगवान कहाँ से आए?
  5. क्या भगवान ने एस दुनिया को बनाया है?
  6. क्या ब्रह्मा, विष्णु और महेश ने सामूहिक रूप से सृष्टि का निर्माण किया है?
  7. क्या वर्तमान में कोई जीवंत भगवान हाज़िर है? वह कहाँ है? वह हमें कैसे मदद कर सकते है?
  8. भगवान को प्रार्थना कैसे करें
  9. मेरे गलत काम के लिए क्या भगवान मुझे माफ करेंगे या सजा देंगे?
  10. भगवान, मुझे आपकी जरूरत है आप कहाँ हो? भगवान कृपया मेरी मदद कीजिये!
  11. इश्वर के प्रेम को कैसे प्राप्त करें?
  12. भगवान पर ध्यान कैसे केन्द्रित करे?
  13. मूर्तिपूजा का महत्व क्या है?
  14. क्या भगवान के कोई गुण हैं?
  15. भगवान पद की प्राप्ति कैसे करें?
  16. अंबा माता और दुर्गा माता कौन हैं?
  17. देवी सरस्वती क्या दर्शाती हैं?
  18. लक्ष्मीजी कहाँ रहती हैं? उनके क्या कायदे हैं?
  19. क्या भगवान की भक्ति और उनके प्रति हमारी श्रद्धा हमें मुक्ति दिलाएगी?
×
Share on
Copy