Related Questions

असफलता से सफलता तक - जानें कि असफलता पर कैसे काबू पाया जाए और आत्महत्या को कैसे रोका जाए

निस्संदेह, जीवन में हर कोई सफलता-असफलता के दौर से गुजरता है। कोई भी व्यक्ति हमेशा सफल नहीं रह सकता। असफलता भी हमेशा के लिए नहीं रहती। बुरे समय में, हम जीवन के प्रति नकारात्मक दृष्टिकोण अपनाते हैं और अनचाही भावनाओं का अनुभव करते हैं, जैसे कि हम किसीको पसंद नहीं है ऐसा महसूस करना, बेकार महसूस करना और दूसरों को नीचा गिनना। अगर स्थिति बिगड़ती है, तो व्यक्ति जीवन के उद्देश्य पर सवाल उठाता है और विषम परिस्थितियों में आत्महत्या के बारे में सोचने लगता है।

ख़ुशी की बात यह है कि निराशा और विषम परिस्थितियों में से बहार निकलने के उपाय और असरकारक दृष्टिकोण मौजूद हैं:

असफलता को किस तरह दूर करें:

  • एक तरह से पहचानो कि, नाकामयाबी अथवा असफलता अच्छे के लिए है - बिना प्रयत्न के आप कभी भी सफल नहीं होंगे। यदि आपके जीवन में असफलता नहीं आई है, तो आप सफल होने की कीमत नहीं समझ पाएंगे। एक ही चीज़ (सकारात्मक या नकारात्मक) का बहुत अधिक होना अनिवार्य रूप से संतुष्टि(अपने आप में ही प्रसन्नता) या उदासीनता की ओर ले जाता है और एक व्यक्ति के रूप में विकास नहीं हो पाता।
  • अत्यंत कठिन समय में भी सकारात्मक मानसिकता बनाए रखें।
  • अपनी गलतियों से सीखें और आगे बढ़ें।
  • जो गलत हुआ उस पर ध्यान न दें और खुद के लिए बुरा महसूस न करें। इसके बजाय, एक सकारात्मक कदम उठाएं और समाधान खोजें।
  • याद रखें कि कोई भी परिस्थिति हमेशा के लिए नहीं रहती है, रात (कठिन समय) के बाद, दिन (अच्छा समय) हमेशा आता है।
  • बीते हुए समय को याद करो। आपने पहले भी ऐसी या इससे भी बुरी परिस्थिति का सामना किया है और आप उसमें सफल हुए हैं।
  • आप जो बीज बोते हैं वहीं आप बनते हैं - अगर आप सोचते रहोगे कि 'मैं कर सकता हूँ और मैं करुँगा' तो धीरे-धीरे चीजें बदलेंगी और आपका विकास होगा। इसी तरह अगर आप बोलते रहोगे कि 'मैं असफल हूँ और समय का व्यर्थ करता हूँ' तो वह आपके विचार और आचरण पर असर डालेंगे और आपके आस पास के लोगो पर भी असर डालेंगे। यह ऐसा है कि जब आप कुएं में बोलते हो कि 'मैं निष्फल हूँ' तो कुआं बोलेगा कि 'मैं निष्फल हूँ', 'मैं निष्फल हूँ'.... "इसी तरह आप कह सकते हो कि 'मैं यह कर सकता हूँ, मेरी पास क्षमता/कुशलता है'। नेगेटिव विचारों के विरोध में बस इसे कई बार दोहराएं।
  • अपने ध्येय के प्रति ईमानदार रहें और उसके प्रति पूरे दिल से काम करें।

सफलता - असफलता की समझ:

सफलता - असफलता को जीवन के पॉजिटिव(सकारात्मक) रूप से देखें। क्योंकि वे विकास और प्रगति में समान रूप से योगदान करते हैं।

याद रखें, दोनों ही प्रकार की परिस्थितियाँ जीवन में आएंगी और जाएंगी।

  • सफलता हमें सिखाती है कि कड़ी मेहनत और आशावादी दृष्टिकोण सकारात्मक परिणाम लाते हैं।
  • असफलता हमें सिखाती है कि प्रतिकूल परिस्थितियाँ, हमारी कमज़ोरियों और नकारात्मकता को ताकत और सकारात्मकता में बदलने की शक्ति रखती हैं।

इसलिए, दोनों हमारे जीवन में प्रगति के रूप से काम करते हैं।

किसी भी परिस्थिति में आपको आत्महत्या करने का विचार नहीं करना चाहिए। इसके बदले, परिस्थिति को बदल दें और आत्महत्या से जुड़े किसी भी विचारों का विरोध करें। अपने जीवन के चुनौतीपूर्ण समय पर जीत हासिल करें और असफलता से सफलता की ओर आशा और उत्साह के साथ आगे बढ़ें।

Related Questions
  1. क्या उद्वेग या भावनात्मक तनाव व्यक्ति को आत्महत्या करने के लिए ज़्यादा प्रेरित करता है? इसके उपाय क्या हैं?
  2. लोग आत्महत्या क्यों करते हैं? आत्महत्या के विचारों का कारण क्या है?
  3. प्रेमियों के आत्महत्या करने के परिणाम क्या हैं? प्रेम के लिए आत्महत्या करना क्या उचित है?
  4. किशोरावस्था में आत्महत्या के कारण क्या है? युवानो में आत्महत्या का प्रमाण क्यों बढ़ रहा है?
  5. आत्महत्या के बाद क्या होता है? आत्महत्या क्यों नहीं करनी चाहिए?
  6. जब आप आत्महत्या करने का महसूस करें तो क्या करें?
  7. जब आप किसी व्यक्ति को इस हद तक दुःख पंहुचा देते है कि उसे आत्महत्या करने का मन हो तब क्या करना चाहिए
  8. आत्महत्या के विचारों से कैसे निपटें?
  9. टूटे हुए दिल के घाव को कैसे भरें और ब्रेकअप के बाद आत्महत्या को कैसे रोका जाए उसके बारे में सीखें
  10. असफलता से सफलता तक - जानें कि असफलता पर कैसे काबू पाया जाए और आत्महत्या को कैसे रोका जाए
  11. जब कोई बुरी घटना घटित होती है क्या तब आपने कभी विचार किया है, 'मैं अपने दुःखों से मुक्त होना चाहता हूँ, मुझे मेरे जीवन का अंत लाना है?'
  12. 'मैंने अपनी नौकरी खो दी है। मैं कर्ज में डूबा हूँ। मैं मरना चाहता हूँ।' कर्ज़ के बारे में सलाह लें और कर्ज़ की वजह से होनेवाली आत्महत्या से बचें।
  13. मेरे प्रियजन की मृत्यु हो गई है। मैं अकेला हूँ और मैं अब और जीना नहीं चाहता हूँ। क्या अकेलेपन में आत्महत्या करना ही एक उपाय है?
  14. क्या आप क्रोनिक (पुराने) दर्द के साथ जी रहे हैं और उसकी वजह से आत्महत्या करने के विचार कर रहे हैं?
  15. कोई मुझे नहीं समझता। कोई भी मेरी परवाह नहीं करता। मैं अपना जीवन समाप्त करना चाहता हूँ। मुझे क्या करना चाहिए?
  16. मुझसे गलती हो गई। मैं अब और नहीं जीना चाहता। मैं खुद को मार डालना चाहता हूँ।
  17. लोग मुझे हरबार जज करते हैं। मैं कहीं फिट नहीं बैठता। मेरा स्थान कहाँ है?
  18. आत्महत्या का परिणाम क्या है?
×
Share on