Related Questions

मैं अपने जीवन में कुछ भी नियंत्रित क्यों नहीं कर सकता?

अपने जीवन को नियंत्रित करने से पहले निम्नलिखित प्रश्नों के बारे में सोचें, जब सब कुछ नियंत्रण से बाहर हो और आप खुद को फँसा हुवा और असहाय सा महसूस कर रहे हों, तब :

  • जब आप पैदा हुवे थे, तो क्या आपको चिंता थी कि आपके दांत बढ़ेंगे या नहीं?
  • क्या बच्चे चिंता करते हैं कि उनका दूध कब और कहां से आएगा?
  • जब आप भोजन करने के बाद सो जाते है तो क्या कभी आप यह जांचते है कि उसके पाचन के लिए पाचन रस और एंजाइम बनने शुरू हुवे या नहीं? आप इन मामलों में कितने सजग हैं? सुबह तक, आपके शरीर ने आपके द्वारा खाए भोजन को पहले ही पाचन कर लिया हैं। सभी पोषक तत्वों को रक्त ने शोषित कर लिया होता है, बाकि अशोषित मल के रूप में उत्सर्जन के लिए ले जाया जाता है। इस प्रकार सब कुछ उसके सही स्थान पर पाया जाता है। क्या इस प्रकिया को पूरा करने के लिए आपको कुछ करना पड़ा था?
  • क्या आपने कभी चिंता की है कि कल सूरज निकलेगा या नहीं?
  • क्या आपने सोचा था कि आपके बाल बढ़ेंगे या नहीं?

वास्तव में किसी का भी, अपने जीवन पर नियंत्रण नहीं है। सभी कुछ नियंत्रित करने जाना, चिंता करने का कारण बन जाता है। तो फिर, हमारे जीवन में जो कुछ भी होता है उसे कौन नियंत्रित करता है? क्या यह भाग्य है? क्या प्रयास करके कुछ बदलना संभव है? या इसके पीछे कोई और करनी कई?

भाग्य और प्रयास

लोग भाग्य और स्वतंत्र स्व-प्रयास के बारे में बात करते हैं। कुछ केवल भाग्य पर भरोसा करते हैं, जबकि कुछ केवल अपने प्रयासो पर भरोसा करते हैं।

जब लोग ज्यादा पैसा कमाते हैं, तो वे इसका श्रेय खुद को देते हैं, और दावा करते हैं कि यह उनकी कड़ी मेहनत और प्रयास के कारण हुवा है। और यदि उन्हें नुकसान होता हैं, तो अपनी कुंडली, भाग्य, बुरी किस्मत को दोष देते है, यहाँ तक कि भगवान को भी दोष देने लगते है। जब सब यथाक्रम रूप से चल रहा हो, तो सारी सफलता हमारे प्रयास का परिणाम है, लेकिन जब व्यवस्था में कुछ भी रूकावट आती है, तो लोग भगवान को दोष देते हैं। क्या यह सही है? जो अव्यवास्थित है उसे यथाक्रम करना उसे ईस दुनिया में स्वतंत्र प्रयास (पुरुषार्थ) कहा जाता है। यदि कोई व्यक्ति वास्तव में पुरुषार्थ (प्रयास) करने में सक्षम हैं,  तो उसे कभी भी नुकसान नहीं होना चाहिए। पुरुषार्थ किसी असफलता को नहीं जानता है। इसलिए यह एक विरोधाभास सा लगता है। तो, क्या आप अभी भी मानते हैं कि आप अपने जीवन को नियंत्रित कर सकते हैं?

लोगों का मानना ​​है कि वे कर्ता हैं जबकि वास्तव में, यह पिछले जन्म का कर्मफल है। वे इस जीवन को नियंत्रित करने का प्रयास करते हैं। नीम के पेड़ की हर पत्ती और शाखा कड़वी होती है। वह हमेशा कड़वी ही रहती है। इसके लिए क्या पेड़ को कोई प्रयास करना पड़ता है? वृक्ष में उगने वाली हर चीज उसके बीज से आई है, इसी तरह मनुष्य अपने सहज स्वभाव (प्रकृति) के अनुसार कार्य करता हैं, लेकिन सिर्फ दावा करता हैं कि “मैं कर्ता हूं” और इस प्रकार अहंकार करता हैं। पिछले जन्म के कर्मफल के आधार से आज घटनाएं घटती है और भौतिक सुख-दुख आते हैं। और “मैंने किया,ऐसा दावा करके हम सूक्ष्म गर्व और अहंकार करता है।

‘तो, क्या मैं इसे भाग्य पर छोड़ दूं ?'

नहीं , आप ऐसे बैठकर ये दावा नहीं कर सकते कि सब कुछ किस्मत पर है। यदि आप ऐसा करते है, तो आप पूरी तरह से निष्क्रिय ही जायेंगे। ऐसी निर्भरता से मन बैचेन हो जायेगा। अगर नियति पर यह निर्भरता सही है,तो आपको कोई चिंता नहीं होनी चाहिए। लेकिन क्या आपको कोई चिंता नहीं है? इसलिए नियति पर निर्भरता तर्कसंगत नहीं है।

तो फिर, कर्ता कौन है?

परिस्थितियाँ 'कर्ता' हैं। सभी संयोग यानि साइन्टिफिक सरकमस्टेन्शियल एविडेन्स (व्यवस्थित) एक साथ मिलते हैं तब कोई घटना घटती है। इस लिए अपने जीवन पर नियंत्रण रखना आपके हाथ में नहीं है। आपको सिर्फ परिस्थिति का निरीक्षण करना चाहिए और देखना चाहिए कि वह क्या हैं? एक बार सभी संयोग मिल जायेंगे, काम पूरा हो जायेगा। मार्च के महीने में बारिश की उम्मीद करना गलत है। 15 जून से (जब भारत में मानसून की बारिश होती है) संयोग एक साथ आते हैं। यदि समय का संयोग मिल रहा हैं, लेकिन बादलों की स्थिति सही नहीं हो, तो बारिश कैसे हो सकती है? जब बादल मौजूद होते हैं, सही समय होता है, बिजलियाँ  होती है और अन्य सभी संयोग एक साथ मिलते हैं, तो बारिश होती हैं। सभी संयोगो को इकट्ठा होना होगा। मनुष्य संयोगो पर निर्भर है। लेकिन वह मानता है कि वह कुछ कर रहा है। वह जो कुछ भी करता है, वह भी परिस्थितियों पर निर्भर करता है। यदि एक भी संयोग कम पड़ता हैं, तो वह उस विशेष कार्य को करने में सक्षम नहीं होगा।

व्यवस्थित क्या है ?

व्यवस्थित वह है जो केवल साइन्टिफिक सरकमस्टेन्शियल एविडेन्स के माध्यम से होता है। व्यवस्थित का ज्ञान सभी अवस्थाओं में संपूर्ण समाधानकरी ज्ञान है।

परम पूज्य दादा भगवान इसे एक सरल उदाहरण के साथ बताते हैं:

एक काँच का गिलास आपके हाथ से छूटने लगा, उसे बचाने के लिए आपने हाथ को ऊपर-नीचे करके अंत तक बचाने का प्रयत्न किया, फिर भी वह गिर पड़ा और टूट गया, तब उसे फोड़ा किस ने? आपकी तनिक भी इच्छा नहीं थी कि गिलास टूटे उल्टे आपने तो उसे अंत तक बचाने का प्रयत्न किया। तब क्या गिलास की खुद की इच्छा थी टूटने की? नहीं, उसे तो ऐसा हो ही नहीं सकता। और कोई हाज़िर नहीं है फोड़नेवाला, तो फिर फोड़ा किस ने? ‘व्यवस्थित ने’। ‘व्यवस्थित’ एक्जेक्ट नियमानुसार चलता है। वहाँ अँधेरनगरी नहीं है। यदि ‘व्यवस्थित’ के नियम में ये गिलास टूटने ही नहीं होते, तो ये काँच के गिलास के कारखाने कैसे चलते? ‘व्यवस्थित’ को तो आपका भी चलाना है और कारखाने भी चलाने हैं और हज़ारों मज़दूरों का पेट भी पालना है। अत: नियम से गिलास टूटेगा ही, टूटे बिना रहेगा ही नहीं। तब अभागा, टूटने पर दु:खी होता है, गुस्सा करता है। अरे! नौकर के हाथों यदि टूट जाए और दो-चार मेहमान बैठे हों, तो मन में सोचता है कि कब मेहमान जाएँ और कब मैं नौकर को चार थप्पड़ जड़ दूँ? और फिर, ऐसा करता भी है! लेकिन यदि उसकी समझ में आ जाए कि नौकर ने नहीं तोड़ा, लेकिन ‘व्यवस्थित’ ने तोड़ा है, तो होगा कुछ? संपूर्ण समाधान रहेगा या नहीं रहेगा? वास्तव में नौकर बेचारा निमित्त है। उसे ये सेठ लोग काटने दौड़ते हैं। निमित्त को कभी काटना नहीं चाहिए। निमित्त को काटकर तू अपना भयंकर अहित कर रहा है। जरा मूल रूट कॉज़ (मूल कारण) का पता लगा न? तो तेरा निबेड़ा आएगा।

 व्यवस्थित का ज्ञान उपयोग में ले (एप्लाय करें)

  • नुकसान हो जाए तो भी चिंता मत करना। फायदा हो तो तू उछलकूद मत करना। वह सारा ‘व्यवस्थित’ करता है। तू तो करता नहीं है। रात-दिन, संध्या-उषा, सब कैसे नियम में हैं, यह ‘व्यवस्थित’ के ताबे में है।
  • परम पूज्य दादा भगवान कहते हैं, “ इन्कमटैक्सवाले की चिट्ठी आई कि आपको जुर्माना किया जाएगा तो हम तुरन्त ही समझ जाएँ कि ‘व्यवस्थित’ है। और ‘व्यवस्थित’ में होगा तो वह जुर्माना करेगा न? नहीं तो उसे संडास जाने की भी शक्ति नहीं है, तो वह और क्या करनेवाला है? जगत् में कोई कुछ कर सके, वैसा है ही नहीं। और अपना ‘व्यवस्थित’ होगा तो वह भी छोड़नेवाला नहीं है, तो किसलिए हम डरें?”

इसलिए अपने जीवन को नियंतत्रित रखने के लिए सोचने के बजाय, सकारात्मक प्रयास करने पर विचार करें। सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ किसी कार्य को पूरा करने के लिए सभी संभव प्रयासों को शामिल करना, हमारी तरफ से किया गया यह सकारात्मक प्रयास सकारात्मकता जोड़ता है। प्रार्थना भी इन सकारात्मक प्रायसो में से एक है। जब हम चिंता नहीं करते है, इससे हम कोई भी नकारात्मक प्रमाण को नही जोड़ते है। जब इन प्रमाण के साथै दुसरे प्रमाण जैसे की समय, स्थान, दुसरे सभी शामिल लोगो के अच्छे और बुरे कर्म, यह इकट्ठा होने पर ,जो अंतिम परिणाम आता है। वह व्यवथित है। एक बार जब हम परिणाम को स्वीकार करना सीख लेते हैं, चाहे यह अच्छा हो या बुरा, एक बार जब हम समझ जाते हैं, कि कोई भी कर्ता नहीं है, तो हमारा जीवन शांतिपूर्ण और आनंद से भरा होगा।

Related Questions
  1. चिंता क्या है? चिंता करने का मतलब (कारण)क्या है?
  2. चिंता क्यों ज्यादातर लोगो की बड़ी समस्या है ? चिंता और परेशानी के कारण क्या है ?
  3. तनाव क्या है?
  4. क्या मैं चिंता रहित रहकर व्यापार कर सकता हूँ?
  5. चिंता करना क्यों बंद करे ? तनाव और चिंता के क्या प्रभाव है ?
  6. किन प्रभावी तरीकों से चिंता करना रोक कर जीना शुरू किया जाये? चिंता कैसे न करें ?
  7. क्या मुझे भविष्य की चिंता करनी चाहिए ?
  8. वर्तमान में रहें। चिंता क्यों?
  9. मैं अपने जीवन में कुछ भी नियंत्रित क्यों नहीं कर सकता?
  10. चिंताओं से मुक्त कैसे हुआ जाए ? सरल है ! आत्मज्ञान पाये !
  11. मुझे इस बात की चिंता होती है कि लोग मुझे पसंद नहीं करते और मेरे बारे में क्या सोचते होंगे ? जब कोई मेरा अपमान करें तब मुझे क्या करना चाहिए?
  12. अगर मुझे नौकरी नहीं मिली, तो मे क्या करूँगा? मैं इसके लिए चिंतित हूँ |
  13. घर के बीमार सदस्य के लिए चिंता करना कैसे बंद करे?
  14. जब जीवनसाथी से धोखा मिल रहा हो, तो चिंता और संदेह से कैसे छुटकारा पाये ?
  15. जीवन में सब कुछ खो देने के डर से कैसे छुटकारा पाऊं ?
×
Share on
Copy