Related Questions

क्या मुझे अपनी पत्नी को सुधारने के लिए प्रयत्न करने चाहिए?

हर बात में हम सामनेवाले के साथ एडजस्ट हो जाएँ तो कितना सारा सरल हो जाए! हमें साथ में क्या ले जाना है? कोई कहेगा कि, 'भैया, बीवी को सीधा कर दो।' 'अरे, उसे सीधी करने जाएगा तो तू टेढ़ा हो जाएगा।' इसलिए वाइफको सीधी करने मत बैठना, जैसी भी हो उसे करेक्ट कहना। आपका उसके साथ सदा का लेन-देन हो तो अलग बात है, यह तो एक जन्म, फिर न जाने कहाँ खो जाएगी। दोनों के मृत्युकाल अलग, दोनों के कर्म अलग! कुछ लेना भी नहीं -देना भी नहीं! यहाँ से वह किसके वहाँ जाएँगी, उसका क्या ठिकाना? आप उसे सीधी करो और अगले जनम में जाए किसी और के हिस्से में!

इसलिए न तो आप उसे सीधी करो और न ही वह आपjscaको सीधा करे। जैसा भी मिला, सोने जैसा। प्रकृति किसी की कभी भी सीधी नहीं हो सकती। कुत्ते की दुम टेढ़ी की टेढ़ी ही रहती है। इसलिए आप सावधान रहकर चलो। जैसी है वैसी ठीक है, 'एडजस्ट एवरीव्हेर'।

×
Share on
Copy