Related Questions

आत्महत्या का परिणाम क्या है?

प्रश्नकर्ता : कोई मनुष्य यदि आत्महत्या करे तो उसकी क्या गति होती है ? भूत-प्रेत बनता है?

दादाश्री : आत्महत्या करने से तो प्रेत बनता है और प्रेत बनकर भटकना पड़ता है। इसलिए आत्महत्या करके उलटे उपाधियाँ मोल लेता है। एकबार आत्महत्या करे, उसके बाद कितने ही जन्मों तक उसका प्रतिघोष गूँजता रहता है! और यह जो आत्महत्या करता है, वह कोई नया नहीं कर रहा है। वह तो पिछले जन्म में आत्महत्या की थी, उसके प्रतिघोष से करता है। यह जो आत्महत्या करता है, वह तो पिछले किए हुए आत्मघात कर्म का फल आता है। इसलिए अपने आप ही आत्महत्या करता है। वे ऐसे प्रतिघोष पड़े होते हैं कि वह वैसा का वैसा ही करता आया होता है। इसलिए अपने आप आत्महत्या करता है और आत्महत्या होने के बाद फिर अवगतिवाला जीव बन जाता है। अवगति अर्थात् देह के बिना भटकता है। भूत बनना कुछ आसान नहीं है। भूत तो देवगति का अवतार है, वह आसान चीज़ नहीं है। भूत तो यहाँ पर कठोर तप किए हों, अज्ञान तप किए हों, तब भूत होता है, जब कि प्रेत अलग वस्तु हैं।

प्रश्नकर्ता : आत्महत्या के विचार क्यों आते होंगे?

दादाश्री : वह तो भीतर विकल्प खतम हो जाते हैं इसलिए। यह तो विकल्प के आधार पर जीया जाता है। विकल्प समाप्त हो जाएँ, फिर अब क्या करना, उसका कोई दर्शन दिखता नहीं है, इसलिए फिर आत्महत्या करने की सोचता है। इसलिए ये विकल्प भी काम के ही हैं।

सहज विचार बंद हो जाएँ, तब ये सब उलटे विचार आते हैं। विकल्प बंद हों इसलिए जो सहज विचार आते हों, वे भी बंद हो जाते हैं। अँधेरा घोर हो जाता है। फिर कुछ दिखता नहीं है! संकल्प अर्थात् 'मेरा' और विकल्प अर्थात् 'मैं'। वे दोनों बंद हो जाएँ, तब मर जाने के विचार आते हैं।

Related Questions
  1. क्या उद्वेग या भावनात्मक तनाव व्यक्ति को आत्महत्या करने के लिए ज़्यादा प्रेरित करता है? इसके उपाय क्या हैं?
  2. लोग आत्महत्या क्यों करते हैं? आत्महत्या के विचारों का कारण क्या है?
  3. प्रेमियों के आत्महत्या करने के परिणाम क्या हैं? प्रेम के लिए आत्महत्या करना क्या उचित है?
  4. किशोरावस्था में आत्महत्या के कारण क्या है? युवानो में आत्महत्या का प्रमाण क्यों बढ़ रहा है?
  5. आत्महत्या के बाद क्या होता है? आत्महत्या क्यों नहीं करनी चाहिए?
  6. जब आप आत्महत्या करने का महसूस करें तो क्या करें?
  7. जब आप किसी व्यक्ति को इस हद तक दुःख पंहुचा देते है कि उसे आत्महत्या करने का मन हो तब क्या करना चाहिए
  8. आत्महत्या के विचारों से कैसे निपटें?
  9. टूटे हुए दिल के घाव को कैसे भरें और ब्रेकअप के बाद आत्महत्या को कैसे रोका जाए उसके बारे में सीखें
  10. असफलता से सफलता तक - जानें कि असफलता पर कैसे काबू पाया जाए और आत्महत्या को कैसे रोका जाए
  11. जब कोई बुरी घटना घटित होती है क्या तब आपने कभी विचार किया है, 'मैं अपने दुःखों से मुक्त होना चाहता हूँ, मुझे मेरे जीवन का अंत लाना है?'
  12. 'मैंने अपनी नौकरी खो दी है। मैं कर्ज में डूबा हूँ। मैं मरना चाहता हूँ।' कर्ज़ के बारे में सलाह लें और कर्ज़ की वजह से होनेवाली आत्महत्या से बचें।
  13. मेरे प्रियजन की मृत्यु हो गई है। मैं अकेला हूँ और मैं अब और जीना नहीं चाहता हूँ। क्या अकेलेपन में आत्महत्या करना ही एक उपाय है?
  14. क्या आप क्रोनिक (पुराने) दर्द के साथ जी रहे हैं और उसकी वजह से आत्महत्या करने के विचार कर रहे हैं?
  15. कोई मुझे नहीं समझता। कोई भी मेरी परवाह नहीं करता। मैं अपना जीवन समाप्त करना चाहता हूँ। मुझे क्या करना चाहिए?
  16. मुझसे गलती हो गई। मैं अब और नहीं जीना चाहता। मैं खुद को मार डालना चाहता हूँ।
  17. लोग मुझे हरबार जज करते हैं। मैं कहीं फिट नहीं बैठता। मेरा स्थान कहाँ है?
  18. आत्महत्या का परिणाम क्या है?
×
Share on