Related Questions

घर के बीमार सदस्य के लिए चिंता करना कैसे बंद करे?

इसमें कोई शक नहीं है की, आप अपने किसी प्रियजन की बीमारी के बारे में सुनते हैं तो यह एक झटके के रूप में आपके सामने आता है । लम्बे दिन और बेचैन रातें आपके दिमाग पर भारी पड़ने लगती हैं । हालांकि, आप पर जिसका सबसे बड़ा प्रतिकूल प्रभाव पड़ाता है वह चिंता का है । क्या होगा, क्या गलत हो सकता है, आदि के बारे में चिंता ...

तो, आप अपने बीमार प्रियजन के बारे में चिंता करना कैसे रोकेंगे? आपको किसी भी स्थिति के अच्छे और बुरे पहलुओं के बारे में एक हद्द तक सोचना चाहिए । जिस क्षण आपकी सोच आपको तकलीफ, पहेली में या परेशान करने लगे, यह समजे की आप सीमा पार कर चुके है । तब उसके बारे में सोचना बंद करें । एक निश्चित स्तर के बाद विचार चिंता में बदल जाते हैं ।

सतर्कता

सावधान रहने और चिंता करने में बड़ा अंतर है । सावधानी इस बात की जागृति है कि क्या आवश्यकता है, क्या सहायक है, और रोगी के लिए क्या हानिकारक है; जबकि चिंता का मतलब है, “क्या होगा?” “ मैं क्या करूँगा? '' इस प्रकार के विचार आपको भीतर से खा जाते हैं ।

जो चिंता आपको खा जाती है,वह व्यर्थ है । वह न सिर्फ आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाती हैं, बल्कि इच्छित परिणाम लाने में भी रुकावट पैदा करती हैं, तो चिंताएं कई मायने में विनाशकारी हैं ।

नकारात्मक विचार नकारात्मक परिणामों को जन्म देती हैं ।

चिंताए एक प्रकार के नकारात्मक विचार हैं । नकारात्मक विचारों का प्रभाव हमेशा प्रतिकूल परिणाम लाते हैं । जब आपके विचार नकारात्मक होते हैं,  तो आप कुदरत में नकारात्मक स्पंदन भेजते हैं । वे नकारात्मक स्पंदन एक साथ नकारात्मकता को खींचते हैं जो दखल और अशांति फैलती हैं । ये नकारात्मक परिणामों का कारण हैं । चिंता से होने वाले नुकसान को जानना, बीमार सदस्यों के लिय होनेवाली चिंता को रोकने का पहला कदम है ।

जब आपको फ्रैक्चर होता है,तो डॉक्टर आपको कास्ट क्यों पहनाते हैं? ताकि आप उपचार प्रक्रिया में दखल न करें । इस बारे में सोचें, यदि आपका हाथ टूट गया है, और आपके पास कास्ट नहीं है, तो आप अपने हाथ को इधर-उधर घुमाते रहेंगे । आप उस पर ध्यान केंद्रित करेंगे और यह देखते रहेंगे कि क्या यह जुड रहा है? तो क्या हाथ को ठीक होने का अवसर मिलेगा? नहीं । वास्तव में, आपकी दखल स्तिथि को ओर ख़राब कर देती  है । यही कारण है कि डॉक्टरों ने आपकी टूटी हड्डियों पर एक कास्ट डाला ताकि आप दखल न कर सकें । ताकि कुदरत को अपना कार्य करने का और आपका फ्रैक्चर ठीक करने का अवसर मिल सके ।

दूसरी ओर, सकारात्मक विचार कुदरत में सकारात्मक स्पंदन भेजते हैं । जो सकारात्मक सबूतों को एक साथ इकठ्ठा करते हैं और सकारात्मक परिणाम प्राप्त होते हैं ।

व्यावहारिक समाधान

भगवान ने कहा है, "समाधान करो , लेकिन चिंता मत करो ।" इसलिय चलिय हम देखते है की इन कठिन परिस्थितियों में हम क्या कर सकते है । तो प्रियजन की चिंता के कठिन समय में चिंता से बचने के व्यावहारिक उपाय यहाँ है:

  • चिंता करने के बजाय, आप अपने मौजूदा विकल्पों पे काम करें । यह सुनिश्चित करने की पूरी कोशिश करें कि आपके परिवार के सदस्य को सही इलाज मिले ।
  • चिकित्सा के अलावा आपके साथ और ध्यान की भी रोगी को जरुरत होती है । कई बार भावनात्मक सहारा ऐसा चमत्कार और परिणाम लाता है जो दवाईयां भी नहीं कर पाती है ।
  • बीमार व्यक्ति की खुशी और जरूरतों का ध्यान रखे ।
  • बीमार व्यक्ति की जरूरतों को प्राधान्य रखे । अपनी अनुसूची में बीमार व्यक्ति की अनुसूची के हिसाब से समजोता करे जिससे समय से उनकी सारी जरूरते पूरी हो सके । मतलब आप बीमार व्यक्ति को समय से दवाइयाँ और खाना मिले यह ध्यान रखे ।
  • बीमार व्यक्ति की स्थिति के बदलाव पर ध्यान दें लेकिन भावुक न हों । आपका निष्कर्ष डॉक्टर को सहायक होगा ।
  • डॉक्टर जब सलाह दे रहे है तब ध्यान से सुने, अक्सर हम डोक्टर की बात समजने में गलती करते है जिससे खुदको अनावश्यक चिंता में पाते है ।
  • जब उपचार चल रहा हो,तो सतर्क और चौकस रहें; लेकिन अपनी चिंताओं के कारण हर कदम पर अनावश्यक रूप से संदेह न करें ।
  • सचेत रहें, ज्ञान ही शक्ति है । बीमारी के बारे में कुछ बुनियादी शोध करें खास कर के उन पर जिस पर आप चिंतित रहते हैं । सही जानकारी आपको चिंताओं से बाहर निकालेगी ।
  • अपने परिवार और दोस्तों के साथ नियमित रूप से अद्यतन के बारे में जानकारी देते रहे । आवश्यक हो तो उनका सहयोग ले । यह आपकी चिंताओं में तेजी से कटौती करेगा ।
  • बीमार व्यक्ति को आराम महसूस कराने के लिए जो भी करना चाहिए वह करें, जब वह सहज होगा , तो यह आपकी चिंताऐ कम होंगी ।
  • बीमार व्यक्ति को कभी अपनी चिंताओं के बारे में न बताए । उनसे विनम्रता और धैर्यपूर्वक बात करें ।
  • उनकी सभी प्रकार से ध्यान रखते समय, अपना भी ख्याल रखें । खुद भी अच्छा खाए और पर्याप्त नींद ले, परेशान मत हो । सही संतुलन में रहे ।

भगवान ने कहा है, "जो वर्तमान में नहीं है, उसके बारे में चिंता मत करो ।" इसलिए, आगे क्या है, इसके बारे में चिंता न करें, वर्तमान पर ध्यान केंद्रित करें । आपको अपनी ज़िम्मेदारियों को पूरा करना होगा और हर वो चीज़ करनी चाहिए जो आपसे संभव हो और आप कर सकते हैं, बिना किसी चिंता किए, सकारात्मकता, पर्याप्त प्यार के साथ देखभाल करो बाकी सब कुदरत पर छोड़ दो ।

Related Questions
  1. चिंता क्या है? चिंता करने का मतलब (कारण)क्या है?
  2. चिंता क्यों ज्यादातर लोगो की बड़ी समस्या है ? चिंता और परेशानी के कारण क्या है ?
  3. तनाव क्या है?
  4. क्या मैं चिंता रहित रहकर व्यापार कर सकता हूँ?
  5. चिंता करना क्यों बंद करे ? तनाव और चिंता के क्या प्रभाव है ?
  6. किन प्रभावी तरीकों से चिंता करना रोक कर जीना शुरू किया जाये? चिंता कैसे न करें ?
  7. क्या मुझे भविष्य की चिंता करनी चाहिए ?
  8. वर्तमान में रहें। चिंता क्यों?
  9. मैं अपने जीवन में कुछ भी नियंत्रित क्यों नहीं कर सकता?
  10. चिंताओं से मुक्त कैसे हुआ जाए ? सरल है ! आत्मज्ञान पाये !
  11. मुझे इस बात की चिंता होती है कि लोग मुझे पसंद नहीं करते और मेरे बारे में क्या सोचते होंगे ? जब कोई मेरा अपमान करें तब मुझे क्या करना चाहिए?
  12. अगर मुझे नौकरी नहीं मिली, तो मे क्या करूँगा? मैं इसके लिए चिंतित हूँ |
  13. घर के बीमार सदस्य के लिए चिंता करना कैसे बंद करे?
  14. जब जीवनसाथी से धोखा मिल रहा हो, तो चिंता और संदेह से कैसे छुटकारा पाये ?
  15. जीवन में सब कुछ खो देने के डर से कैसे छुटकारा पाऊं ?
×
Share on
Copy