Related Questions

मैं क्रोध करते-करते थक गया हूँ। क्रोध से छुटकारा कैसे पाएँ?

लोग पूछते है, ''यह हमारे क्रोध का क्या इलाज करें?'' मैंने कहा, ''अभी आप क्या करते हैं?'' तब कहते हैं, ''क्रोध को दबाते रहते है।'' मैंने पूछा, ''पहचान कर दबाते हो या बिना पहचाने? क्रोध को पहचानना तो होगा न?'' क्रोध और शांति दोनों साथ-साथ बैठे होते है। अब हम क्रोध को नहीं पहचानें और शांति को दबा दें, तो शांति मर जाएगी बल्कि! अतः दबाने जैसी चीज़ नहीं है। तब उसकी समझ में आया कि क्रोध अहंकार है। अब किस प्रकार के अहंकार से क्रोध होता है, इसकी तह़कीकात करनी चाहिए।

इस बेटे ने ग्लास फोड़ा तो क्रोध आ गया, वहाँ हमारा क्या अहंकार है? इस ग्लास का नुकसान होगा, ऐसा अहंकार है। ऩफा-नुकसान का अहंकार है हमारा! इसलिए ऩफा-नुकसान के अहंकार को, उस पर विचार कर के, निर्मूल करो। गलत अहंकार को सँभालकर रखने से क्रोध होता रहता है। क्रोध है, लोभ है, वे सभी तो वास्तव में मूलतः सारे अहंकार ही हैं।

×
Share on
Copy