Related Questions

आत्मा का अनुभव क्या होता है?

प्रश्नकर्ता : आत्मा का अनुभव हो जाने पर क्या होता है ?

दादाश्री : आत्मा का अनुभव हो गया, यानी देहाध्यास छूट गया। देहाध्यास छूट गया, यानी कर्म बंधना रुक गया। फिर और क्या चाहिए॒?

प्रश्नकर्ता : मैं चाहता हूँ कि आप मुझे यह ज्ञान का मार्ग बताएँ। सिर्फ इतना ही।
दादाश्री : हाँ, मैं आपको यह मार्ग दिखाऊँगा। सिर्फ दिखाऊँगा नहीं, परंतु आपका आत्मा आपके हाथो में दे दूँगा।
प्रश्नकर्ता : फिर तो मेरा मनुष्य जीवन का उद्देश्य सफल हो जाएगा। इससे ज्यादा मैं और क्या माँग सकता हूँ?
दादाश्री : हाँ, पूरी तरह से सफल हो जाएगा। अगणित जन्मों के प्रयास के बावजूद जो आप नहीं पा सके, वह मैं आपको सिर्फ एक घंटे में दे दूँगा। फिर आपको यह एहसास होगा कि मनुष्य जीवन का जो ध्येय है, वह आपने पा लिया। अन्यथा, यह आप हज़ारों जन्मों के प्रयत्न के बावजूद भी नहीं पा सकते।

×
Share on
Copy