Related Questions

भगवान कहाँ हैं ?

भगवान का एड्रेस

भगवान कहाँ रहते होंगे? उनका एड्रेस क्या है? कभी खत वत लिखना चाहें तो? वे कौन से मुहल्ले में रहते हैं? उनका स्ट्रीट नंबर क्या होगा?

प्रश्नकर्ता: यह तो मालूम नहीं है, लेकिन सभी कहते हैं, ऊपर रहते हैं।

दादाश्री: सब कहते हैं, और आपने भी मान लिया? हमें पता तो लगाना चाहिए न? देखो मैं आपको भगवान का सही ठिकाना बताता हूँ। गॉड इज इन एवरी क्रीचर व्हेदर विजिबल और इनविजिबल (भगवान सभी जीवों में रहते हैं, फिर भले ही वे आँख से दिखनेवाले ऐसे हों या न दिखनेवाले जीव हों।) आपके और मेरे बीच में दूरबीन (सूक्ष्मदर्शी) से भी दिखाई नहीं दें, ऐसे अनंत जीव हैं। उनमें भी भगवान बैठे हुए हैं। इन सभी में शक्ति के रूप में हैं और हमारे अंदर व्यक्त हो गए हैं। संपूर्ण प्रकाशमान हो गए हैं। इसलिए हम प्रकट परमात्मा हो चुके हैं! गज़ब का प्रकाश हुआ है!! यह जो आपको दिखाई देते हैं, वे तो अंबालाल मूलजीभाई, भादरण के पाटीदार हैं और कोन्ट्रेक्ट का व्यवसाय करते हैं, लेकिन भीतर जो प्रकट हो गए हैं, वे तो गज़ब का आश्चर्य हैं। वे ‘दादा भगवान’ हैं। लेकिन आपको कैसे समझ मे आए? यह देह तो पैकिंग (खोखा) है। भीतर बैठे हैं, वे भगवान हैं। यह आपका भी चंदूलाल रूपी पैकिंग है और भीतर भगवान विराजे हैं। यह गधा है, तो यह भी गधे का पैकिंग है और भीतर भगवान विराजे हैं। लेकिन इन अभागों की समझ में नहीं आता, इसलिए गधा सामने आए, तो गाली देते हैं, जिसे भीतर बैठे भगवान नोट करते हैं और कहते हैं, ‘हम्म्... मुझे गधा कह रहा है, जा अब तुझे भी एक जन्म गधे का मिलेगा।’ यह पैकिंग तो कैसा भी हो सकता है। कोई सागवान का होता है, कोई आम की लकड़ी का होता है। ये व्यापारी पैकिंग देखते हैं या भीतर का माल देखते हैं?

प्रश्नकर्ता: माल देखते हैं।

दादाश्री: हाँ, पैकिंग का क्या करना है? काम तो माल से ही है न? कोई पैकिंग सड़ा हुआ हो, टूटा-फूटा हो, लेकिन माल तो अच्छा है न?

हमने इस अंबालाल मूलजीभाई के साथ क्षण के लिए भी तन्मयता नहीं की है। जब से हमें ज्ञान उपजा तब से दिस इज माई फर्स्ट नेबर (ये मेरे प्रथम पड़ौसी हैं) पड़ौसी की तरह ही रहते हैं हम।

* चंदूलाल = जब भी दादाश्री 'चंदूलाल' या फिर किसी व्यक्ति के नाम का प्रयोग करते हैं, तब वाचक, यथार्थ समझ के लिए, अपने नाम को वहाँ पर डाल दें।

Related Questions
  1. भगवान कहाँ हैं ?
  2. क्या भगवान ने ये दुनिया बनाई हैं?
  3. क्या ब्रह्मा विष्णु महेश ने मिलकर ये दुनिया बनाई हैं?
  4. क्या भगवान के कोई गुण हैं?
  5. भगवान का प्रेम किस तरह प्राप्त किया जा सकता हैं?
  6. क्या भगवान की भक्ति और उनके प्रति हमारी श्रद्धा हमें मुक्ति दिलाएगी?
  7. क्या भगवान हमारे सारे पाप माफ़ कर देते हैं? और सच्चा सुख क्या है?
  8. भगवान के प्रति एकाग्रता को कैसे बढ़ाएँ?
  9. भगवान पद की प्राप्ति कैसे करें?
  10. क्या मूति॔-पूजा या दर्शन करना ज़रूरी है ?
  11. अंबा माता और दुर्गा माता कौन हैं?
  12. देवी सरस्वती क्या दर्शाती हैं?
  13. लक्ष्मीजी कहाँ रहती हैं? उनके क्या कायदे हैं?
  14. क्या भगवान ब्रह्मांड के मालिक हैं? हम जीवन में बंधन मुक्त कैसे हो सकते हैं? हमें मोक्ष कैसे मिलेगा?
×
Share on
Copy