श्रीमद् भगवद् गीता की यथार्थ समझ

हजारों वर्ष पहले लिखी गयी भगवद् गीता का विश्लेषण व अभ्यास प्रत्येक विद्वान द्वारा अलग-अलग प्रकार से किया गया है और इस काल में जब उम्र में मात्र पच्चीस वर्ष के अंतर होने के उपरांत भी पुत्र अपने पिता के अंतर आशय को समझने में समर्थ नहीं है, तो फिर हजारों वर्ष बाद अंतर आशय किस तरह समझा जाएगा? पर, जिस तरह हम अपने हर रोज के जीवन में संवादहीनता के कारण कई बार गलतफहमियों के शिकार बन जाते हैं और जिसके कारण हम सही अर्थ से वंचित रह जाते हैं, ठीक उसी प्रकार स्वाभाविक रूप से समय के साथ भगवद् गीता का मूल (गूढ़) अर्थ भी लुप्त हो गया है

यदि कोई भगवद् गीता का सारांश यथार्थ रूप से समझने में सक्षम हो तो वह परम सत्य का अनुभव कर राग (बंधन) की भ्रान्ति व संसार के दुखों में से मुक्त हो सकता है अर्जुन ने भी महाभारत का युद्ध लड़ते हुए सांसारिक दुखों से मुक्ति प्राप्त की थी भगवान श्री कृष्ण के द्वारा दिए गए दिव्यचक्षु के कारण ही यह संभव हो सका और इसी दिव्यचक्षु के कारण अर्जुन कोई भी कर्म बाँधे बिना युद्ध लड़ने में सक्षम बने और उसी जीवन में मोक्ष प्राप्त किया

भगवान श्री कृष्ण द्वारा अर्जुन को दिया गया ज्ञान और कुछ नहीं बल्कि ‘मटीरिअल और पैकिंग’ (माल और डब्बे) का ही है नीचे लिखा हुआ लेख, जिसमें श्री कृष्ण भगवान साक्षात प्रकट हुए हैं ऐसे ज्ञानी पुरुष के प्रभाव पूर्ण शब्दों को दर्शाता है, जिसके द्वारा हम अपनी खोई हुई समझ को फिर से प्राप्त कर सकते हैं और उसके उपयोग द्वारा कर्मों से मुक्त हो सकते हैं

आप इस वेब पेज द्वारा केवल ज्ञान के विषय से ही नहीं बल्कि भगवान श्री कृष्ण से सम्बंधित तथ्य और कथाएँ भी जान पाएंगे सोलह हजार रानियाँ होने के बावजूद भी, वे नैष्ठिक ब्रह्मचारी कहलाये? वास्तव में सुदर्शन चक्र क्या है? परधर्म और स्वधर्म किसे कहते हैं? गोवर्धन पर्वत को उठाने के पीछे का रहस्य क्या था? ऐसे सभी गूढ़ रहस्यों और दूसरा बहुत कुछ यहाँ उजागर होगा

ગીતાનો મર્મ જ્ઞાનીની દ્રષ્ટિએ

ગીતામાં 'આત્મા તત્ત્વ' માટે 'હું' શબ્દ વપરાયો છે. એ સિવાય બધો અનાત્મા વિભાગ. આત્મા પ્રાપ્ત થયો છે તેવા જ્ઞાની તમને ભેદ પાડી આપે ત્યારે આત્મા અને અનાત્માની ઓળખાણ થાય.

Top Questions & Answers

  1. श्रीमद् भगवद् गीता का रहस्य क्या है? भगवद् गीता का सार क्या है?
  2. विराट कृष्ण दर्शन या विश्वदर्शन के समय अर्जुन ने क्या अनुभव किया था? और ये विराट स्वरुप क्या है?
  3. भगवद् गीता में श्री कृष्ण भगवान ने ‘निष्काम कर्म’ का अर्थ क्या समझाया है?
  4. ब्रह्म संबंध और अग्यारस का वास्तविक अर्थ क्या है? सच्ची भक्ति की परिभाषा क्या है?
  5. भगवद् गीता के अनुसार स्थितप्रज्ञा यानि क्या?
  6. श्री कृष्ण भगवान के अनुसार प्रकृति के तीन गुण कौन से हैं? भगवान श्री कृष्ण के साथ एकाकार (अभेद) होने के लिए क्यों और किस प्रकार चार वेदों से ऊपर उठा जा सके?
  7. ओम् नमो भगवते वासुदेवाय का अर्थ क्या है? वासुदेव के गुण क्या होते हैं? भगवान श्री कृष्ण को वासुदेव क्यों कहा गया है?
  8. गोवर्धन पर्वत को छोटी ऊँगली पर उठाना – सत्य है या लोक कथा?
  9. ठाकोरजी की पूजा-भक्ति किस तरह करनी चाहिए?
  10. पुष्टिमार्ग का उद्देश्य क्या है? श्री कृष्ण भगवान को नैष्ठिक ब्रह्मचारी क्यों कहा गया है?
  11. कृष्ण भगवान का सच्चा भक्त कौन है? वास्तविक कृष्ण या योगेश्वर कृष्ण कौन हैं?
  12. भगवद् गीता के अनुसार, जगत कौन चलाता है?
  13. स्वधर्म और परधर्म किसे कहते हैं?
  14. भगवद् गीता का सार क्या है?
  15. भगवान श्री कृष्ण की सत्य और लोक कथाएँ

Spiritual Quotes

  1. हमने आपको ‘स्वरूप ज्ञान’ दिया उसके बाद आपको जो दशा उत्पन्न हुई है, वह कृष्ण भगवान की बताई हुई ‘स्थितप्रज्ञ’ दशा से कहीं ऊँची दशा है। यह तो प्रज्ञा कहलाती है! उससे राग-द्वेष का निंदन कर देना।
  2. कृष्ण भगवान ने कहा है कि, ‘स्वरूप के धर्म का पालन करना, वह स्वधर्म है। और ये एकादशी करते हैं या अन्य कुछ करते हैं, वह तो पराया धर्म है, उसमें स्वरूप नहीं है।’
  3. ‘खुद का आत्मा ही कृष्ण है’ ऐसा समझ में आए, उसकी पहचान हो जाए, तभी स्वधर्म का पालन किया जा सकता है।
  4. कृष्ण तो कितना कुछ कह गए हैं कि, ‘प्राप्त को भोग, अप्राप्त की चिंता मत करना।’ अभी यह भोजन की थाली सामने आई है, वह प्राप्त संयोग है  
  5. मोक्ष के लिए योगेश्वर को भजो और संसार में रहना हो तो बालकृष्ण को भजो। कृष्ण तो नर में से नारायण बने थे, ज्ञानी थे। 
  6. बालकृष्ण की भक्ति से वैकुंठ मिलता है। योगेश्वर कृष्ण की भक्ति और सच्चे ज्ञान की प्राप्ति से मोक्ष मिलता है। कृष्ण भगवान ने गीता में ‘मैं’ शब्द का ‘आत्मा’ के लिए ही उपयोग किया है, देहधारी कृष्ण के लिए नहीं।
  7. यहाँ तो जैन, वैष्णव, मुस्लिम, क्राइस्ट, सभी धर्मों का संगम है। ‘हम’ संगमेश्वर भगवान हैं। कृष्णवाले को कृष्ण मिलते हैं और खुदावाले को खुदा मिलते हैं, कितने ही हमारे पास कृष्ण भगवान के दर्शन करके गए हैं। यहाँ पर निष्पक्षपाती धर्म है।
  8. ‘ज्ञानीपुरुष’ आपके अनंतकाल के पापों का पोटला बनाकर भस्मीभूत कर देते हैं,’ ऐसा कृष्ण भगवान ने कहा है। सिर्फ पाप जला देते हैं इतना ही नहीं, लेकिन साथ ही साथ उन्हें दिव्यचक्षु देते हैं और स्वरूप का लक्ष्य करवा देते हैं! इस अक्रम मार्ग के ‘ज्ञानीपुरुष’ ‘न भूतो न भविष्यति’ ऐसे प्रत्यक्ष हैं, वे हैं तब तक काम निकाल लो!

Related Books

×
Share on
Copy