Related Questions

क्या ओपन माइन्ड (खुला मन) पॉज़िटिव बनने में सहायरूप है? क्या ओपन माइन्ड पॉज़िटिव माइन्ड होता है?

ऑपन माइन्ड है पॉजिटिव गुण

जितना माइन्ड ओपन (खुला मन) रखे उतना समझे कहलाए। माइन्ड जितना ओपन हुआ उतनी समझदारी कहलाए। कम समझदारीवाला संकुचित होता जाए। जिसका माइन्ड संकुचित होगा वह कहेगा कि ‘मैं समझता हूँ मगर वह मनुष्य कुछ भी नहीं समझता।’ लेकिन जिसका ओपन माइन्ड होता है न, वह समझा कहलाए।

जितना ओपन माइन्ड, उतनी वह ऊँची वस्तु कहलाए। खुद का माइन्ड कैसा है यह समझना चाहिए। हमें (कषायरूपी) ठोकर नहीं लगे और हमारा ओपन माइन्ड रहे तो समझना कि हमने कैसा ओपन माइन्ड रखा है। यह मैं तुझे क्यों बताता हूँ? इस समय तेरा मन संकुचित हो गया है। भविष्य में ऐसा संकुचित रहा तो सब बंद हो जाएगा। फिर अंदर कोई अच्छी वस्तु डालना चाहेंगे तो घुसेगी नहीं न? इसलिए माइन्ड ओपन कर देना। फिर भी वह एकदम से ओपन नहीं रहेगा। क्योंकि अंदरवाले क्या करेंगे?

प्रश्नकर्ता: उछलेंगे।

दादाश्री: अंदरवाले तुझे कहेंगे कि ‘क्या सुनने जैसा है?’ तब उन्हें हमें कहना है, ‘यहाँ चुप बैठिए।’ अंदरवाले तुझसे अलग हैं। वे सभी ‘क’वाले हैं। क्या नाम है उन ‘क’वालों का? अंदर क्रोधक है जो क्रोध करवाता है। लोभक है जो लोभ करवाता है। चेतक है जो चेतावनी देनेवाला है। भावक है जो भाव करानेवाला है। अंदर होंगे न यह सारे?

प्रश्नकर्ता: होते हैं, हरएक में होते ही हैं।

दादाश्री: वे सभी होते ही हैं, इसलिए उन सभी से चेतना है। उनको निकालते-निकालते तो मेरा दम निकल गया था। कितना समय गुज़रने के बाद निकले थे, वे उपवंशीय हैं। वे खुद की वंशावली का माल नहीं हैं। बाहर से आकर घुस गए हैं। लोग जानते तक नहीं है कि खुद के अंदर से कौन बोल रहा है। खुद को कार्य करना हो और अंदर से किसी और प्रकार की ही सलाह मिले तो क्या हम नहीं समझ जाएँ कि यह कोई तीसरा है? क्या ऐसा नहीं होता है? ऐसा तेरे अनुभव में आया है?

प्रश्नकर्ता: होता ही है!

दादाश्री: वह अंदर तीसरी जाति है इसलिए तुझे सावधान किया। मैंने तेरा मन बहुत संकुचित देखा। ऐसा संकुचित नहीं रखते। वर्ना इतनी बड़ी फिलासफ़ी कैसे समझ पाओगे? माइन्ड ओपन रखें। किसी की भी सुन लेना एकबार। सुनने के बाद हमें ठीक नहीं लगे तो छोड़ देना और ठीक लगे तो भी बहुत गहराई में मत जाना। हमें जिसके पाँच वाक्य पसंद आए हों उसका छठा वाक्य अंदर लिख लेना। उतना थोड़ा-बहुत विश्वास तो रखना पड़े कि नहीं?

जैसे कि, अभी पंद्रह दिन पहले किसी जगह पर एक स्टीमर डूब गया हो और फिर व्यापार हेतु आज आपको वहाँ पर जाना पड़े, तो स्टीमर में बैठते समय आपको अंदर क्या होगा? घबराहट हो जाएगी। अंदर से आवाज़ आएगी कि ‘यदि यह डूब गया तो?’ तब आप क्या कहेंगे?

प्रश्नकर्ता: वैसे हम किसी के बारे में अभिप्राय नहीं दे सकते लेकिन यदि ओपन माइन्ड रहा तो अभिप्राय दे सकते हैं, ऐसा आपने बताया। मतलब, ओपन माइन्ड अर्थात् आप क्या कहना चाहते हैं?
दादाश्री: ‘इतना मुझसे होगा और इतना नहीं होगा’, अंदर ऐसा रहे तो वे सभी संकुचित माइन्ड है। ओपन माइन्ड अर्थात्, नेगेटिव वह नेगेटिव और पॉजिटिव वह पॉजिटिव, ऐसे दोनों को समझे और पॉजिटिव में रहे ताकि नेगेटिव आए ही नहीं। और संकुचित माइन्ड मतलब नेगेटिव में रहना। वहाँ फिर पॉजिटिव नहीं आता। ओपन माइन्डवाले मनुष्य कम होते हैं। आप चाहे किसी भी धर्म की बात करें, कैसी भी बात करें, तब भी उसे भीतर कोई असर नहीं होता, तब वह ओपन माइन्ड कहलाए, वर्ना तो संकुचितता है।

मन शंकाशील होने के कारण उलटा दिखाई देता है। मन शंकाशील हो तो उसे शुद्ध करना पड़े। किंतु यह सच्ची बात लोगों के हाथ नहीं लगती।

Related Questions
  1. क्यों पॉज़िटिविटी (सकारात्मकता) हमें सुख देती है और नेगेटिविटी (नकारात्मकता) दुःख?
  2. पॉज़िटिव एवं नेगेटिव शब्दों का सामनेवालों पर तथा खुद पर क्या असर होता है? सामनेवाले की समझ की जाँच कर सकते हैं?
  3. आत्मज्ञान प्राप्त करने के पश्चात, नेगेटिव परिस्थिति में भी पॉज़िटिव देखने के लिए हमारी दृष्टि किस तरह से व्यापक होती है?
  4. मेरे साथ क्यों ये नेगेटिव घटनाएँ घटी? पॉज़िटिव और नेगेटिव उर्जाएँ कैसे काम करती हैं?
  5. पहले कोई नेगेटिव होता है, बाद में वह पॉज़िटिव बन जाता है। इसके पीछे क्या कारण है?
  6. क्या सकारात्मकता भगवान के पक्ष में?
  7. पॉज़िटिव अहंकार और नेगेटिव अहंकार क्या फल देता है?
  8. नेगेटिव विचारों की क्या सीमा होनी चाहिए?
  9. नेगेटिव विचारों को पॉज़िटिव विचारों द्वारा कैसे खत्म करें?
  10. क्या ओपन माइन्ड (खुला मन) पॉज़िटिव बनने में सहायरूप है? क्या ओपन माइन्ड पॉज़िटिव माइन्ड होता है?
  11. सारी परिस्थितियों को पॉज़िटिव तरीके से कैसे ले?
  12. आत्मज्ञान प्राप्ति के बाद, क्या हमारा जीवन पॉज़िटिव हो जाता है?
×
Share on
Copy