Related Questions

क्या मैं एक किट-किट करनेवाली पत्नी हूँ?

यह तो रात को कभी पति को घर लौटने में देरी हो जाए, किसी संयोगवश, ‘हं... इतनी देर से आया जाता होगा?’ तो क्या वे नहीं जानते कि देर हो गई है? उनके भीतर भी खटकता होगा कि बहुत देर हो गई, बहुत देर हो गई। उसमें फिर यह वाइफ ऐसा कहती है कि ‘इतनी देर से कोई आता होगा?’ बेचारा! ऐसी मीनिंगलेस बातें करनी चाहिए? तुझे समझ में आता है? अर्थात् जब वे घर देर से लौटें, उस दिन देख लेना कि मूड कैसा है? इसलिए फिर तुरंत कहना कि पहले चाय-वाय पीओ, फिर भोजन के लिए बैठो। ऐसा कहने से अच्छे मूड में आ जाता है। मूड उल्टा हो तो आप उन्हें चाय-पानी पिलाकर खुश करना। जैसे पुलिसवाला आया हो, हमारा मूड नहीं हो, फिर भी चाय-पानी नहीं कराते? यह तो अपना है, उसे खुश नहीं करना चाहिए? अपने हैं, तो खुश करना चाहिए। बहुतों को मालूम होगा कि कभी गाड़ी मूड में नहीं होती, ऐसा नहीं होता? गरम हो गई हो तब क्या उसे लाठी मारनी चाहिए? उसे मूड में लाने के लिए ठंडी करनी पड़ती है थोड़ी, रेडीयेटर फिराना, पंखा चलाना। नहीं करते?

प्रश्नकर्ता (स्त्री): ब्रान्डी पीना कैसे बंद कराएँ?

दादाश्री: घर में तुम्हारा प्रेम देखेंगे तो सब छोड़ देंगे। प्रेम के खातिर सभी चीज़ें छोड़ने को तैयार हैं। प्रेम नज़र नहीं आता इसलिए शराब से प्रेम करता है, किसी और से प्रेम करता है। नहीं तो बीच पर घूमता रहता है। भैया, यहाँ तेरे बाप ने क्या गाड़ रखा हैं, घर पर जा न! तब कहेगा, ‘घर पर तो मुझे अच्छा ही नहीं लगता।’

×
Share on
Copy