हर जगह एडजस्ट हो जाएँ : सुख की मुख्य चाबी

जीवन में सिर्फ एक ही चीज़ अपरिवर्तनशील है,और वह है  परिवर्तन। आश्चर्य की बात यह है कि लोग इसका विरोध करते हैं। अगर परिवर्तन स्थायी है तो क्या हमें उसे स्वीकारना नहीं चाहिए,परिवर्तन के साथ एडजस्ट नहीं होना चाहिए?जीवन में जन्म से मृत्यु तक हमें कईं एडजस्टमेन्ट लेने पड़ते हैं। हम सभी जीवन में कभी न कभी नापसंद परिस्थितियों में एडजस्ट हुए हैं। उदाहरण के तौर पर बारिश में छाते का इस्तेमाल। हम बारिश से कोई प्रश्न,बहस या उसका विरोध नहीं करते। इसी तरह भले ही हमें पढ़ाई करना अच्छा लगता हो या नहीं हमें पढ़ाई के साथ एडजस्ट होना पड़ता है। लेकिन जब नापसंद लोगों के साथ के व्यवहार की बात आती  है,तब न सिर्फ उससे प्रश्न,बहस या विरोध करते हैं,बल्कि उसके साथ झगड़ा कर बैठते हैं। ऐसा क्यों होता है?हमेशा बदलते रहनेवाले संयोगों में क्लेश न हो,बल्कि शांति और खुशी रहें उसके लिए परम पूज्य दादाश्री ने 'एडजस्ट एवरीव्हेर' का सूत्र समझाया है। इस सर लेकिन अत्यंत शक्तिशाली सूत्र में आपका जीवन बदलने की ताकत है। कैसे? जानने के लिए पढ़ें।

 

Adjustments in Life

If you don't adjust in your life, adjust with people willingly then people will make you adjust forcingly. You have to take maximum adjustment with your spouse as you are with her for 24 hours.

Spiritual Quotes

  1. संसार में और कुछ नहीं आये तो हर्ज नहीं पर एडजस्ट होना तो आना ही चाहिए।
  2. सामनेवाला 'डिसएडजस्ट' (प्रतिकूल) होता रहे पर आप एडजस्ट होते रहें तो संसार सागर तैरकर पार उतर जाओगे। जिसे दूसरों को अनुकूल होना आया, उसे कोई दुःख ही नहीं रहेगा। 'एडजस्ट एवरीव्हेयर'!
  3. संसार का अर्थ ही समसरन मार्ग। इसलिए निरंतर परिवर्तन होता ही रहता है।
  4. प्रत्येक के साथ एडजस्टमेन्ट होना यही सब से बड़ा धर्म है।
  5. जमाने के अनुसार एडजस्टमेन्ट लेना होगा।
  6. जिसे 'एडजस्ट' होने की कला आ गई, वह दुनिया से 'मोक्ष' की ओर मुड़ गया।
  7.  जितने एडजस्टमेन्ट लोगे, उतनी शक्तियाँ बढ़ेंगी और अशक्तियों का क्षय होगा।
  8. भूल सुधारेंगे तो 'एडजस्ट' होगा।
  9. व्यवहार निभाया किसे कहेंगे कि जो 'एडजस्ट एवरीव्हेयर' हुआ!
  10. ऐसा है न, कि व्यवहार में 'टॉप' की समझ के बिना कोई मोक्ष में गया ही नहीं है। कितना भी कीमती, बारह लाख का आत्मज्ञान हो मगर क्या व्यवहार छोडने वाला है? व्यवहार नहीं छोड़े तो आप क्या करेंगे?

Related Books

×
Share on
Copy